डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के 40 शैक्षिक विचार | Dr Ambedkar Quotes on Education in Hindi

उच्च शिक्षित डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने शिक्षा के बारे में कई अमूल्य विचार व्यक्त किए हैं। इस लेख में हम बाबासाहेब के शैक्षिक विचारों के बारे में जानेंगे। – Dr Babasaheb Ambedkar quotes on education in Hindi भीमराव अम्बेडकर के विचार

 हा लेख मराठीत वाचा 

Dr Babasaheb Ambedkar quotes on education in Hindi
भीमराव अम्बेडकर के विचार

डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर, एक उच्च शिक्षित व्यक्ति, प्रोफेसर और शिक्षाविद, और एक अग्रणी वैश्विक विचारक थे। उनके व्यक्तित्व के कई पहलू हैं। यह लेख ‘शिक्षा और आंबेडकर’ के बारे में है। डॉ. आंबेडकर ने अपने जीवन में शिक्षा को सबसे अधिक महत्व दिया और उन्होंने जोर देकर कहा कि शिक्षा के माध्यम से ही मनुष्य समृद्ध हो सकता है।

बाबासाहेब आंबेडकर का विचार था कि शिक्षा प्रत्येक व्यक्ति का जन्मसिद्ध अधिकार है और किसी को भी इस अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता है।

 

शिक्षा पर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के विचारों को जानने से पहले, आपको उनके कुछ महत्वपूर्ण शैक्षिक बातों को जानना चाहिए –

– डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर अत्यधिक उच्च शिक्षित और अपने समय के ‘सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे व्यक्ति’ थे। The most educated person – बाबासाहेब ने लंदन, भारत, अमेरिका से शिक्षा प्राप्त की और कई उच्च डिग्रियां प्राप्त कीं।

– बाबासाहेब आंबेडकर ने प्रोफेसर के रूप में भी काम किया है। Ambedkar quotes in Hindi

– डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर को पढ़ने का बहुत शौक था, वे प्रतिदिन अठारह घंटे अध्ययन करते थे।

– उनकी शैक्षिक योग्यता, विद्वता और प्रतिभा इतनी व्यापक और शानदार है कि उन्हें ‘दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति’ के साथ-साथ ‘ज्ञान के प्रतीक’ (सिम्बॉल ऑफ नॉलेज) के रूप में जाना जाता है।

– बाबासाहेब अछूतों और महिलाओं के साथ साथ सभी भारतीयों की शिक्षा के लिए प्रयास करते रहे।

– डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने वंचित एवं दलित समुदाय की शिक्षा के लिए पीपुल्स एजुकेशन सोसाइटी की स्थापना की।

Dr Babasaheb Ambedkar thoughts on education in Hindi

 

शिक्षा पर डॉ आंबेडकर के विचार – Dr Bhimrao Ambedkar thoughts on education

#1  यह जानते हुए की शिक्षा ही जीवन में प्रगति का मार्ग है, छात्रों को कठिन अध्ययन करना चाहिए और समाज के वफादार नेता बनना चाहिए। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#2 हमें शिक्षा के प्रसार को उतना ही महत्व देना चाहिए जितना कि हम राजनीतिक आंदोलन को महत्व देते हैं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (मनमाड, 9 दिसंबर, 1945)

 

#3 तकनीकी और वैज्ञानिक प्रशिक्षण के बिना देश की कोई भी विकास योजना पूरी नहीं होगी। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (कोलकाता, 24 अगस्त 1944)

Dr Ambedkar quotes on education in Hindi
भीमराव अम्बेडकर के विचार

#4  शिक्षित बनो, आंदोलन करों, संगठित रहो, आत्मविश्वासी बनो, कभी भी हार मत मानो, यही हमारे जीवन के पांच सिद्धांत हैं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (नागपुर, 29 जुलाई, 1942)

 

#5  किसी भी समाज का उत्थान उस समाज में शिक्षा की प्रगति पर निर्भर करता है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (मनमाड, 16 जनवरी 1949)

Dr Ambedkar quotes on education in Hindi

 

#6 ज्ञान मानव जीवन का आधार है। छात्रों की बौद्धिक क्षमता को बढ़ाना और बनाए रखना; साथ ही उनकी बुद्धि को उत्तेजित करने का हर संभव प्रयास करना चाहिए। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (कोल्हापूर, 24 दिसंबर 1952)

 

#7 आप शिक्षित हो गए इसका मतलब यह नहीं है कि सब कुछ हुआ। शिक्षा के महत्व में कोई संदेह नहीं है, लेकिन शिक्षा के साथ-साथ शील (नैतिकता) भी सुधारी जानी चाहिए… नैतिकता के बिना शिक्षा का मूल्य शून्य है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (मुंबई, 3 जून, 1953)

Dr Ambedkar quotes in Hindi

Dr Ambedkar quotes on education in Hindi
भीमराव अम्बेडकर के विचार

#8  लड़कों और लड़कियों को शिक्षित करें, उन्हें पारंपरिक व्यावसायिक कामों में शामिल न करें। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (मुंबई, 13 जुलाई 1941)

 

#9  मेरा जीवन तीन गुरुओं और तीन उपास्य दैवतों से बना है। मेरे पहले और श्रेष्ठ गुरु बुद्ध हैं। मेरे दूसरे गुरु कबीर हैं और तीसरे गुरु ज्योतिबा फुले हैं…  मेरे तीन उपास्य दैवत भी हैं। मेरा पहला दैवत ‘विद्या’, दूसरा दैवत ‘स्वाभिमान’ और तीसरा दैवत ‘शील’ (नैतिकता) है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (मुंबई, 28 अक्टूबर 1954)

 

#10 प्राथमिक शिक्षा का सार्वत्रिक प्रचार सर्वांगीण राष्ट्रीय प्रगति के भवन का आधार है।…. इसलिए प्राथमिक शिक्षा के मामले में अनिवार्य कानून बनाया जाना चाहिए।- डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (महाबळेश्वर, 6 मई, 1929)

dr babasaheb ambedkar thoughts in Hindi

 

#11  इस दुनिया में स्वाभिमान से जीना सीखो। इस दुनिया में कुछ करके ही दिखाना है यह महत्वाकांक्षा हमेशा आपके अंदर होनी चाहिए। (याद रखना) जो लड़ने हैं वही आगे आते हैं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (मुंबई, फरवरी 1933)

 

#12 स्वच्छ रहना सीखें और सभी दुर्गुणों से मुक्त रहें। अपने बच्चों को शिक्षित करें। उनके मन में धीरे-धीरे महत्वाकांक्षा जगाएं। उन्हें विश्वास दिलाएं कि वे महान व्यक्ति बनने जा रहे हैं। उनके अंदर की हीनता को नष्ट करें। उनसे शादी करने में जल्दबाजी न करें। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (नागपूर, 20 जुलाई, 1942)

 

#13 छात्रों को बस्ती बस्ती में जाकर लोगों की अज्ञानता और मूर्खतापूर्ण विश्वासों दूर करना चाहिए, तभी उनकी शिक्षा से लोगों को कुछ लाभ होगा। अपने ज्ञान का उपयोग केवल परीक्षा उत्तीर्ण होने के लिए करना पर्याप्त नहीं होगा। हमें अपने ज्ञान का उपयोग अपने भाइयों और बहनों के सुधार एवं प्रगति करने के लिए करना चाहिए; तभी भारत समृद्ध होगा। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर (महाड़, 2 मई 1954)

Dr Ambedkar quotes on education in Hindi

Dr Ambedkar quotes about education  – डा. आंबेडकर के शिक्षा संबंधी विचार

#14 छात्र स्तर पर ही अपनी योग्यता बढ़ाएँ। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#15 अपने स्वयं के ज्ञान को धीरे-धीरे बढ़ाते रहना, इससे ज्यादा खुशी की बात और क्या हो सकती है? – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#16  ग्रंथ ही गुरू हैं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

dr ambedkar images with quotes in hindi

 

#17  पढ़ोगे तो बचोगे। (वाचाल तर वाचाल) – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#18  मुझे लोगों के सहवास से ज्यादा किताबों का सहवास पसंद है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#19  यदि कोई व्यक्ति जीवन भर सीखना चाहे तो भी वह ज्ञान सागर के पानी में घुटने जितना ही जा सकता है।- डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

Dr Ambedkar quotes on education in Hindi

 

#20 ‘शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो’। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

डॉ अंबेडकर द्वारा उठाया गया मुख्य नारा क्या था?

#21 शिक्षा एक पवित्र संस्था है। स्कूल में मन सुसंस्कृत होते हैं। सभ्य नागरिक बनाने के लिए स्कूल एक पवित्र क्षेत्र हैं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#22 शिक्षा का लक्ष्य लोगों को नैतिक और सामाजिक बनाना है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#23 शिक्षा शेरनी का दूध है और जो उसे पिएगा वह शेर की तरह गुर्राएगा जरूर। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#24 आप ही अपने जीवन के शिल्पकार हो। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#25 मैं किसी समाज की प्रगति को उस समाज की महिलाओं की प्रगति से मापता हूं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#26 प्रत्येक छात्र को अपने चरित्र का निर्माण प्रज्ञा, शील, करुणा, विद्या और मैत्री इन पंचतत्वों के आधार पर करना चाहिए। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#27 शिक्षा सामाजिक परिवर्तन का माध्यम है। समय आने पर भूखे रहो लेकिन अपने बच्चों को पढ़ाओ। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#28 बच्‍चों को स्‍कूल पहुंचा देना ही काफी नहीं हे, उन्‍हें बुनियादी शिक्षा प्राप्‍त करने तक स्‍कूल से जोडे रखना भी जरूरी है। ठीक ऐसे ही जैसे कि पेड लगाना ही पर्याप्‍त नहीं है, उन पेडों को खाद-पानी देकर सींचना भी जरूरी है, वर्ना उन्‍हें मरने में देर नहीं लगेगी। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#29 शिक्षा वह है जो व्‍यक्ति को निडर बनाए, एकता का पाठ पढाए, लोगों को अधिकारों के प्रति सचेत करे, संघर्ष की सीख दे और आजादी के लिए लडना सिखाए। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#30 लोगों का जीवन-स्‍तर उठाने लिए शिक्षा सबसे महत्‍वपूर्ण अस्‍त्र है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#31 असली शिक्षा हमें भयभीत करने की जगह तार्किक बनाएगी। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#32 जो आदमी को योग्‍य न बनाए, समानता और नैतिकता न सिखाए, वह सच्‍ची शिक्षा नहीं है। सच्‍ची शिक्षा तो समाज में मानवता की रक्षा करती है, आजीविका का सहारा बनती है, आदमी को ज्ञान और समानता का पाठ पढाती है। सच्‍ची शिक्षा समाज में जीवन का सृजन करती है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#33 मैं अपना सारा जीवन एक छात्र के रूप में जीना चाहता हूँ। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#34 शिक्षा ही जीवन में वास्तविक प्रगति की कुंजी है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#35 जब विद्यार्थी सीख रहे हों तो उन्हें ‘सीखने’ का एक ही लक्ष्य अपने सामने रखना चाहिए। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#36 ज्ञान सभी मनुष्यों के लिए भोजन के समान है। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#37 मनुष्य इस दुनिया में कुछ भी हासिल नहीं कर सकता जब तक कि शील और शिक्षा पास न हों। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#38 ज्ञान और विद्या केवल पुरुषों के लिए नहीं हैं; वे महिलाओं के लिए भी आवश्यक हैं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#39 शिक्षा के बिना हम महत्वपूर्ण स्थानों पर कब्जा नहीं कर पाएंगे। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#40 ‘निडर बनो और दुनिया का राज्य पाओ,’ यही मैं युवा छात्रों से कहना चाहता हूं। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

 

#41  अगर आपके पास दो रुपये हैं तो एक रुपये की रोटी और एक रुपये की किताब ले लीजिए. क्योंकि रोटी आपको जीने में मदद करेगी और किताब आपको जीना सिखाएगी। – डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर

Dr Ambedkar quotes in Hindi

 

 

यह भी पढ़े 

 

 

‘धम्म भारत’ पर मराठी, हिंदी और अंग्रेजी में लेख लिखे जाते हैं :


दोस्तों, धम्म भारत के नए लेख की सूचना पाने के लिए नीचे दाईं ओर लाल घंटी आइकन पर क्लिक करें।

(धम्म भारत के सभी अपडेट पाने के लिए आप हमें फेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published.