दुनिया में डॉ आंबेडकर की मूर्तियाँ – Dr Ambedkar statues in the World

आधुनिक भारत के निर्माता कहे जाने वाले डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की मूर्तियाँ कई देशों में लगाई गई हैं। आज हम भारत के बाहर विदेशों में स्थापित बाबासाहब की सभी मूर्तियों के बारे में जानेंगे।

 या लेखाला मराठीत वाचा 

Ambedkar statues in world
Dr Ambedkar statues in world – दुनिया में डॉ आंबेडकर की मूर्तियाँ

समानता का संदेश देने के साथ-साथ नागरिक अधिकारों के लिए आवाज बुलंद करने वाले और आधुनिक भारत के निर्माता कहे जाने वाले डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की मूर्तियाँ कई देशों में लगाई गई हैं। डॉ आंबेडकर भारत में एक बहुत प्रभावशाली व्यक्ति हैं, इसलिए उनकी मूर्तियाँ भारत में बड़ी संख्या में पाई जाती हैं। लेकिन आज हम भारत के बाहर विदेशों में स्थापित बाबासाहब की सभी मूर्तियों की सूची और जानकारी जानेंगे।

How many countries have Ambedkar statue? भारत के बाहर बाबासाहेब की कुल कितनी मूर्तियाँ हैं?, वे मूर्तियाँ किन देशों में हैं?, विदेशों में बाबासाहेब की कितनी अर्ध मुर्तियां और पुर्ण मूर्तियाँ हैं? बाबासाहेब की मूर्तियाँ विदेशी विश्वविद्यालयों में स्थापित की गई हैं? ऐसे कई सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे। Ambedkar statue in foreign countries

क्या आप यह जानते है की भारत के बाद यूनाइटेड किंगडम में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की सबसे अधिक मूर्तियाँ हैं?

दुनिया में डॉ आंबेडकर की मूर्तियों की सूची

कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में सबसे ज्यादा मूर्तियां डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की हैं। उनके बाद महात्मा गांधी का नंबर आता है। बाबासाहेब की मूर्तियों की संख्या एक लाख से अधिक होनी चाहिए। How many Ambedkar statue in world

भारतीयों में, गौतम बुद्ध, बोधिधर्म और महात्मा गांधी के बाद विदेशों में सर्वाधिक मुर्तियां बाबासाहब आंबेडकर की हैं। इस लेख में बाबा साहब की अर्ध प्रतिमाएं तथा पूर्ण प्रतिमाएं शामिल है। दक्षिण अमेरिका के अलावा, अन्य सभी मानव रहित महाद्वीपों (एशिया, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका) में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की मूर्तियाँ लगाई गई हैं।

हाल ही में 28 सितंबर 2022 को मॉरीशस में बाबासाहेब की अर्ध प्रतिमा स्थापित की गई। साथ ही वियतनाम में आने वाले आंंबेडकर जयंती (14 अप्रेल 2023) को, बाबासाहेब की 10 प्रतिमा लगेगी। List of Ambedkar statues in world

 

Table of Contents

भारत के बाहर डॉ आंबेडकर की मूर्तियाँ

Which are Dr Ambedkar’s statues and busts Outside India?

1. कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क, अमेरिका

Dr Ambedkar statue at Columbia University
Statue of Ambedkar in Columbia University, USA

डॉ बाबासाहब आंबेडकर की 100वीं जयंती के अवसर पर सन 1991 में अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में कोलंबिया विश्वविद्यालय में उनकी एक कांस्य प्रतिमा स्थापित की गई थी। मुंबई के शिल्पकार विनय ब्रह्मेश वाघ द्वारा बनाई गई इस प्रतिमा को 24 अक्टूबर 1991 को कोलंबिया विश्वविद्यालय के दक्षिण एशियाई संस्थान को आंबेडकराइट अँड बुद्धिस्ट ऑर्गेनाइजेशन, यूके द्वारा भेंट की गई थी। और बाद में न्यूयॉर्क और न्यू जर्सी के आंबेडकरवादी लोगों के संगठन ने प्रतिमा स्थापित करने के लिए संगमरमर का चौथरा (बेस) विश्वविद्यालय को भेंट  दिया।

फिर 1995 में यह प्रतिमा लेहमन लाइब्रेरी में स्थापित की गई। डॉ आंंबेडकर की प्रतिमा का स्थान कोलंबिया विश्वविद्यालय परिसर के सबसे लोकप्रिय स्थानों में से एक है। बहुत से लोग विशेषकर भारतीय बड़ी संख्या में इस प्रतिमा देखने आते हैं। Ambedkar statue in USA

आप जानते ही होंगे कि डॉ आंबेडकर कोलंबिया विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र थे। उन्होंने इस विश्वविद्यालय से एम.ए., पीएच.डी. और एलएल.डी. डिग्रियां हासिल कीं। 2004 में, कोलंबिया विश्वविद्यालय की स्थापना की 250वीं वर्षगांठ के अवसर पर, विश्वविद्यालय ने अपने 250 वर्षों के विश्व के 100 सबसे बुद्धिमान और सर्वश्रेष्ठ छात्रों की एक सूची तैयार की, और इस सूची में पहला नाम डॉ. आंबेडकर का था। बाबासाहेब को व्यापक रूप से ‘भारतीय संविधान के निर्माता’ के रूप में जाना जाता है, लेकिन कोलंबिया विश्वविद्यालय ने बाबासाहेब को “आधुनिक भारत के निर्माता” के रूप में सम्मानित किया। संदर्भ 

 

2. लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, लंदन, यूके

Ambedkar-bust-at-LSE-Library-2
Dr Ambedkar bust at LSE Library (Credit- Daniel Payne)

यूनाइटेड किंगडम (यूके) में स्थित लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (LSC) में भी डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की प्रतिमा लगाई गई हैं। बाबासाहेब ने इस शैक्षणिक संस्थान में अध्ययन किया, और यहीं से उन्होंने MSc और DSc की डिग्रीयां प्राप्त की।

यह डॉ आंबेडकर की मूर्ति LSC की पुरानी इमारत की एट्रियम गैलरी में रखी गई है। Ambedkar statue in London 

यह कांस्य प्रतिमा प्रसिद्ध भारतीय मूर्तिकार ब्रह्मेश वी वाघ द्वारा बनाई गई थी। एलएसई के निदेशक जॉन एशवर्थ द्वारा 14 अप्रैल 1994 को अनावरण किया गया। यह प्रतिमा फेडरेशन ऑफ आंबेडकर आणि बुद्धीस्ट ऑर्गनायझेशन्स, यूके द्वारा एलएसई को भेंट की गई थी।

 

3. वॉल्वरहैम्प्टन बुद्ध विहार, यूके

Statue of Dr Ambedkar in Wolverhampton, UK (Photo: Suraj Yengde)

किसी विदेशी मुल्क में पहली बार डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की पूर्ण प्रतिमा 2002 में ग्रेट ब्रिटेन (यूनाइटेड किंगडम) के वॉल्वरहैम्प्टन में बुद्ध विहार के परिसर में स्थापित की गई थी। अपर ज़ार स्ट्रीट में स्थित बुद्ध विहार कम्युनिटी सेंटर का नाम डॉ बाबासाहेब आंबेडकर के नाम पर रखा गया है। Ambedkar statue in the United Kingdom 

बाबासाहेब की प्रतिमा का अनावरण 14 अक्टूबर 2000 को वॉल्वरहैम्प्टन के मेयर द्वारा किया गया था। बाबासाहेब की मूर्तियों में उन्हें उनके बाएं हाथ में “the constitution of India” ग्रंथ लिए दर्शाया जाता है, लेकिन इन बाबासाहेब मूर्ति के दाहिने हाथ में “The Buddha and His Dhamma” ग्रंथ है, और उन्हें बौद्ध धर्म की शिक्षा देते हुए दिखाया गया है।

इस प्रतिमा को हटा दिया जाएगा और इसके स्थान पर बाबासाहेब की नई प्रतिमा स्थापित की जाएगी। सन्दर्भ 

 

4. साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी, बर्नाबी, कनाडा

Dr Ambedkar statue in Simon Fraser University
Dr Ambedkar statue in Simon Fraser University

संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम के बाद, 2004 में कनाडा के बर्नबाई में साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी (SFU) ने बाबासाहेब की अर्ध प्रतिमा स्थापित की। (Ambedkar statue in Canada कनाडा में आंबेडकर की मूर्ति)

साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी ने अपने इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमैनिटीज के जरिए डब्ल्यूएसी बेनेट लाइब्रेरी के तीसरे फ्लोर लाउंज एरिया में डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की प्रतिमा लगाकर यूनिवर्सिटी और लाइब्रेरी को सम्मानित किया है। बाबासाहेब को इस तरह सम्मानित करने के लिए साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी (एसएफयू) कोलंबिया यूनिवर्सिटी और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स की लाईन में शामिल हो गई।

इस प्रतिमा में तीन पट्टिकाएं हैं। सामने की ओर लगी पट्टिका पर बाबासाहेब का अंग्रेजी में परिचय लिखा हुआ है – “डॉ. बी.आर. आंबेडकर (1891-1956) “भारतीय संविधान के जनक”; भारत रत्न (1990) (भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान); सामाजिक न्याय और समानता के लिए लड़ने वाला निडर योद्धा।”

अन्य दो पट्टिकाएँ मूर्ति के दाईं और बाईं ओर हैं और उन दोनों में डॉ. आंंबेडकर के एक-एक अनमोल विचार लिखे गए हैं। एक पर विचार लिखा है, “मैं किसी भी समाज की प्रगति को उस समाज में महिलाओं की प्रगति से मापता हूं,” जबकि दूसरी तरफ, “शिक्षा को सभी के लिए सुलभ बनाया जाना चाहिए।”

 

5. कोयासन यूनिवर्सिटी, जापान

Dr Ambedkar statue in koyasan University japan
Dr Ambedkar Statue in Koyasan University, Japan

जापान के वाकायामा प्रांत में कोयासन विश्वविद्यालय में डॉ आंबेडकर की पुर्ण प्रतिमा स्थापित की गई है। इस मूर्ति का अनावरण 10 सितंबर 2015 को महाराष्ट्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस द्वारा किया गया था। इस समय कोयासन विश्वविद्यालय अपनी स्थापना का 1200वां वर्ष मना रहा था जबकि भारत सहित पूरी दुनिया में बाबासाहेब की 125वीं जयंती मनाई जा रही थी। Ambedkar statue in Japan

बाबासाहेब की यह प्रतिमा पंचधातु से बनी है और इसकी कीमत 22.25 लाख रुपए आई है। मूर्ति की कुल ऊंचाई साढ़े दस फीट है, जिनमें में केवल मूर्ति साढ़े छह फीट और उसके बेस की ऊंचाई चार फीट है। इस मूर्ति का निर्माण मूर्तिकार बालकृष्ण (दाजी) पांचाल ने दिसंबर 2014 और मार्च 2015 के बीच सिंधुदुर्ग जिले के कुडाल में किया था।

पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग के हिस्से के रूप में, महाराष्ट्र सरकार ने अक्टूबर 2013 में वाकायामा राज्य के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। कोयासन भी वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल है। महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम (एमटीडीसी) द्वारा कोयासन में बाबासाहेब की प्रतिमा स्थापित की गई है। यह पहली बार है कि इस स्थान पर किसी विदेशी नागरिक की प्रतिमा स्थापित की गई है।

(नोट: मैंने जापान की बाबासाहेब की मूर्ति पर मराठी, हिंदी, इंग्लिश और जापानी विकिपीडिया पर लेख बनाए हैं।)

 

6. डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर मेमोरियल, लंदन, यूके

Dr Ambedkar statue in Ambedkar Memorial London
Dr Ambedkar statue in Dr Ambedkar Memorial London

लंदन में स्थित डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर मेमोरियल में डॉ. बाबासाहेब की दो मूर्तियाँ हैं – जिसमें से एक स्मारक के अंदर अर्धप्रतिमा है, जबकि स्मारक परिसर में डॉ. आंंबेडकर की पुर्ण प्रतिमा है। Ambedkar statue in London 

डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की पुर्ण प्रतिमा का अनावरण 14 अप्रैल 2015 को किया गया था। यह प्रतिमा 20 साल पहले बनाई गई थी, लेकिन यहां उसकी स्थापित नहीं की गई थी। इस प्रतिमा की स्थापना के 7 महीने बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉ. आंबेडकर स्मारक का उद्घाटन किया था।

 

7. डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर स्मारक, लंदन, यूके

Dr Ambedkar bust in Ambedkar Memorial London

डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर मेमोरियल या डॉ. आंबेडकर हाउस लंदन, यूनाइटेड किंगडम में 10 किंग हेनरी रोड पर स्थित बाबासाहेब का अंतरराष्ट्रीय स्मारक है। इस स्मारक के अंदर डॉ आंबेडकर की एक सुंदर अर्ध प्रतिमा स्थापित की गई है। स्मारक का लोकार्पण 14 नवंबर 2015 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था। इस स्मारक की वास्तु को महाराष्ट्र सरकार ने 35 करोड़ रुपए में खरीदा था।

हालाँकि इस स्मारक को “डॉ. आंबेडकर हाउस लंदन”, “डॉ. आंबेडकर मेमोरियल लंदन” के नाम से जाना जाता है, लेकिन इसका आधिकारिक नाम “डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर मेमोरियल” यानी “डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर स्मारक” है।

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में अध्ययन के दौरान बाबासाहेब आंबेडकर 1921-22 के दौरान इस इमारत में रहते थे। इस वास्तु की दीवार पर “डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर (1891-1956), सामाजिक न्याय के भारतीय अग्रदूत, जो 1921-22 में यहां निवास करते थे” ऐसे शब्द अंकित हैं। संदर्भ 

डॉ आंबेडकर स्मारक में उनसे संबंधित कई दुर्लभ तस्वीरें और अन्य यादगार वस्तुएं हैं। कई प्रतिष्ठित और प्रसिद्ध भारतीय हस्तियां इस स्मारक पर जाकर बाबासाहेब को नमन करती हैं। हालांकि यह भारतीय छात्रों के लिए एक प्रमुख प्रेरणा स्थल है, लेकिन यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल के रूप में उभर चुका है।

 

8. यॉर्क यूनिवर्सिटी, टोरंटो, कनाडा

Dr Ambedkar statue in York University
Dr Ambedkar statue in York University, Canada 

कनाडा के टोरंटो शहर में स्थित यॉर्क यूनिवर्सिटी (York University) में डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की प्रतिमा है। कनाडा में भारत के उच्चायुक्त विष्णु प्रकाश ने 2 दिसंबर 2015 को इस प्रतिमा का अनावरण किया था। Ambedkar statue in Canada

विष्णु प्रकाश ने डॉ. आंबेडकर को भारत के महान सुपुत्र और भारतीय संविधान के निर्माता के रूप में सम्मानित किया। उन्होंने यॉर्क विश्वविद्यालय के छात्रों को और उनके माध्यम से कनाडा के लोगों को बाबासाहेब की प्रतिमा समर्पित की। (दुनिया में आंबेडकर मूर्तियों की सूची List of Ambedkar statue in world)

भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएसएसआर) के अध्यक्ष डॉ. सुखदेव थोरात ने भी इस अवसर पर मुख्य भाषण दिया। उन्होंने नेल्सन मंडेला और मार्टिन लूथर किंग जूनियर से डॉ. आंबेडकर की तुलना करते हुए उन्हें 20वीं सदी के महान व्यक्तित्वों में से एक कहा। संदर्भ 

 

9. संयुक्त राष्ट्र (यूएन), अमेरिका

BR Ambedkar statue in the United Nations
Dr BR Ambedkar statue in the United Nations, USA

2016 में संयुक्त राष्ट्र में पहली बार डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 125वीं जयंती मनाई गई। तदनुसार, 14 अप्रैल 2016 को, डॉ. आंंबेडकर की एक अर्थ प्रतिमा भी लगाई गई थी।

2016 के अलावा 2017 और 2018 में भी संयुक्त राष्ट्र में लगातार तीन बार आंबेडकर जयंती मनाई गई थी। संयुक्त राष्ट्र ने बाबासाहेब को वैश्विक प्रणेता के रूप में सम्मानित किया।

 

10. डॉ. आंबेडकर हाई स्कूल, हंगरी

dr ambedkar statue in hungary
Dr. B.R. Ambedkar Statue at the School of Sajokaza, Hungary

यूरोप का दिल कहे जाने वाले हंगरी देश में पहली बार बाबासाहेब की प्रतिमा स्थापित की गई है। हंगरी में रहने वाले जिप्सी लोग बाबासाहेब से काफी प्रभावित हैं। Dr. B.R. Ambedkar Statue at the School of Sajokaza, Hungary!

हंगरी के लोगों के लिए बाबासाहेब के नाम पर अपने देश में तीन माध्यमिक विद्यालय भी स्थापित किए गए हैं। 14 अप्रैल 2016 को जहां दुनिया भर में बाबासाहेब अंबेडकर की 125वीं जयंती मनाई जा रही है, वहीं हंगरी के डॉ. अंबेडकर हाई स्कूल में बाबासाहेब की अर्ध प्रतिमा स्थापित की गई। Ambedkar statue in Hungary 

 

11. यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न सिडनी, ऑस्ट्रेलिया

Dr Ambedkar statue in University western sydney
Dr Ambedkar statue in University of Western Sydney, Australia 

ऑस्ट्रेलिया के ‘यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न सिडनी’ नामक विश्वविद्यालय में भी डॉ. आंंबेडकर की एक अर्ध प्रतिमा है। (Dr Ambedkar statue in University of Western Sydney) इस प्रतिमा का अनावरण 14 जुलाई 2016 को किया गया था। मूर्तिकार गौतम पाल ने बाबासाहेब की इस मूर्ति का निर्माण किया था। संदर्भ 

यूनिवर्सिटी ऑफ़ वेस्टर्न सिडनी ने अपने स्कूल ऑफ लॉ के 21वें जन्मदिन के मौके पर प्रेरणादायी भारतीय सामाजिक अधिकारियों के लिए लड़नेवाले नेता डॉ भीमराव रामजी आंबेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया। इंडियन कौन्सिल ऑफ कल्चरल रिलेशन्स द्वारा भेंट दी गई इस आंंबेडकर प्रतिमा को विश्वविद्यालय के पररामट्टा परिसर में स्कूल ऑफ लॉ के मूट कोर्ट में स्थापित किया गया है। Ambedkar statue in Australia 

बाबासाहेब की इस मूर्ति का अनावरण एक विशेष समारोह में श्री नवदीप सूरी (ऑस्ट्रेलिया में भारत के उच्चायुक्त), भारत के महावाणिज्यदूत बी वनलालवना, ऑस्ट्रेलिया में भारतीय समुदाय के गणमान्य व्यक्तियों, यूनिवर्सिटी के वरिष्ठ अधिकारियों तथा स्कूल ऑफ लॉ स्टाफ और छात्रों की उपस्थिति में किया गया।

स्कूल ऑफ लॉ के डीन, प्रोफेसर माइकल एडम्स (Michael Adams) का कहना है कि यह काम (बाबासाहेब की मूर्ति की स्थापना) निस्संदेह यूनिवर्सिटी ऑफ़ वेस्टर्न सिडनी में पढ़ने वाले कानूनी विशेषज्ञों की अगली पीढ़ी को प्रेरित करेगा। “इस साल, स्कूल ऑफ लॉ ने आधिकारिक तौर पर कई भारतीय विश्वविद्यालयों का दौरा किया और मजबूत संबंध बनाने की उम्मीद की। डॉ आंंबेडकर की अर्धप्रतिमा का उदार उपहार हमारे समुदायों के बीच घनिष्ठ संबंधों को दर्शाता है,” प्रोफेसर एडम्स कहते हैं। संदर्भ 

 

12. ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी, बोस्टन, यूएसए

dr ambedkar statue in Brandeis university
Dr Ambedkar statue in Brandeis university

अमेरिका के बोस्टन शहर में स्थित ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी में भी बाबासाहेब की अर्ध प्रतिमा लगाई गई है। 29 अप्रैल, 2017 को, ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी प्रोवोस्ट लिसा लिंच (Lisa Lynch) द्वारा प्रतिमा का अनावरण किया गया। यह प्रतिमा विश्वविद्यालय की गोल्डफर्ब मेन लाइब्रेरी में रखी गई है। Ambedkar statue in America 

अमेरिका में डॉ. आंंबेडकर की यह दूसरी प्रतिमा है (पहले कोलंबिया विश्वविद्यालय में)। डॉ बाबासाहेब आंंबेडकर की यह प्रतिमा नागपुर के प्रज्ञा दर्शन ने बनाई थी। अमेरिका में आंंबेडकर की मूर्ति

संयुक्त राज्य अमेरिका के दलित भारतीय समुदाय ने 29 अप्रैल को ब्रैंडिस विश्वविद्यालय को भारतीय संविधान के जनक डॉ बीआर आंंबेडकर की एक कांस्य प्रतिमा भेंट की।

न्यू इंग्लैंड के कई दलित परिवारों सहित 125 से अधिक लोगों ने भारतीय संविधान और जातिगत भेदभाव विषय पर तीन दिवसीय सम्मेलन के हिस्से के रूप में ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी की मुख्य लाइब्रेरी में प्रतिमा के अनावरण में भाग लिया। संदर्भ 

जीडीएस के निदेशक लॉरेंस साइमन ने कहा, “कोलंबिया विश्वविद्यालय के बाद ब्रैंडिस संयुक्त राज्य अमेरिका में एकमात्र विश्वविद्यालय है, जिसे इस महान न्यायविद और मानवाधिकार नेता की प्रतिमा से सम्मानित किया गया है।”

प्रतिमा के अनावरण के बाद लीसा लिंच ने कहा, लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (एलएसई) के पूर्व छात्र के रूप में, मुझे यह देखकर विशेष रूप से प्रसन्नता हो रही है कि हमारे पास भी एलएसई की तरह डॉ. आंंबेडकर की मूर्ति होगी। पूरी दुनिया पर डॉ आंंबेडकर की विरासत का प्रभाव और विशेष रूप से दमन से बाहर आने के बाद शिक्षा पर उनका ध्यान प्रेरणा का स्रोत है। ब्रैंडिस में यह प्रतिमा न केवल उन लोगों को प्रेरित करेगी जो उसके बारे में जानते हैं बल्कि उन लोगों को भी प्रेरित करेगी जो उसके बारे में नहीं जानते हैं ताकि उन्हें अधिक जानने और प्रेरित होने में मदद मिल सके।संदर्भ

 

13. मेलबर्न विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया

Dr Ambedkar Statue in The University of Melbourne
Dr Ambedkar Statue in the University of Melbourne, Australia

30/31 मार्च 2018 को, ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न विश्वविद्यालय में बाबासाहेब की एक अर्धप्रतिमा स्थापित की गई थी। डॉ. आंंबेडकर इंटरनेशनल मिशन (एआईएम) ने डॉ. आंंबेडकर जयंती समारोह के दौरान मेलबर्न विश्वविद्यालय में डॉ आंंबेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया। Ambedkar statue in Australia संदर्भ 

 

14. यूनिवर्सिटी ऑफ मैसाचुसेट्स एमहर्स्ट, यूएसए

ambedkar bust in the university of massachusetts amherst
Dr Ambedkar bust in the University of Massachusetts Amherst, USA

5 मई, 2018 को, अमेरिका के ‘यूनिवर्सिटी ऑफ मैसाचुसेट्स एमहर्स्ट’ में डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर की 40 पाउंड की कांस्य प्रतिमा स्थापित की गई। Ambedkar statue in America 

प्रतिमा के अनावरण के अवसर पर कुलपति स्टीव गुडविन ने अफ्रीकी-अमेरिकी विद्वान डॉ. डब्लू ईबी डू बोइस और डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर के बीच संबंधों पर प्रकाश डाला। डु बोइस और बाबासाहेब दोनों के जीवन में समान अनुभव थे और उन्होंने नागरिक अधिकारों के आंदोलन में समानांतर रास्तों की यात्रा की। 

उन्होंने आगे कहा कि विश्वविद्यालय में डॉ आंंबेडकर की प्रतिमा होने से उन्हें एक ‘वैश्विक मानव’ (global human) के रूप में बेहतर ढंग से समझने और इन दो महापुरुषों के जीवन और विरासत को एक साथ जानने का अवसर मिलेगा। Ambedkar statue in other countries

गुडविन ने कहा, “डॉ. बी.आर. आंंबेडकर लोकतंत्र के प्रेरक अनुस्मारक के रूप में खड़े हैं और सभी के लिए समान अधिकार और शिक्षा के मूल्यों के प्रतीक हैं। उनका काम, विरासत और सबक आज भी बहुत प्रासंगिक हैं।” संदर्भ  

 

15. दक्षिण अफ्रीका

Dr. Babasaheb Ambedkar’s statues in south africa
Dr. Ambedkar’s statues in South Africa (Photo credit: Dilip M. Menon)

2019 की एक समाचार रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में बाबासाहेब की मूर्तियों का निर्माण किया जा रहा है। ये मूर्तियां दक्षिण अफ्रीका में ही चुनिंदा जगहों पर लगाई जाएंगी। BR Ambedkar statue in World संदर्भ 

 

16. इंडियन हाई कमिशन हाऊस, लंदन, यूके

Ambedkar Bust of the Indian High commission, London
Dr. Ambedkar Bust of the Indian High commission, India house, London (तस्वीर में बाबासाहेब के परपोते सुजात प्रकाश आंंबेडकर इंडिया हाउस, लंदन में उनकी प्रतिमा के पास खड़े हैं)

भारतीय उच्चायोग, इंडिया हाउस (Indian High commission, India house), लंदन, यूनाइटेड किंगडम में डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर की प्रतिमा स्थापित की गई है। कई गणमान्य व्यक्ति इस प्रतिमा के दर्शन करते हैं। यह प्रतिमा भारतीय उच्चायोग, इंडिया हाउस के डॉ. आंंबेडकर हॉल में स्थित है। संदर्भ 

 

17. महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट, मोका, मॉरीशस

Dr Babasaheb Ambedkar Statue in Mauritius
Dr Babasaheb Ambedkar Statue in Mauritius

हाल ही में मॉरीशस में बाबासाहेब की प्रतिमा स्थापित की गई। मॉरीशस के मोका शहर स्थित महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट के प्रांगण में डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर की प्रतिमा लगाई गई है। 28 सितंबर 2022 को मॉरीशस के राष्ट्रपति पृथ्वीराज सिंह रूपन द्वारा बाबासाहेब की प्रतिमा का अनावरण किया गया। फुले शाहू आंबेडकर विचार प्रसारक मंडळ भोर, पुणे द्वारा महामानव डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर की प्रतिमा मॉरीशस मराठी मंडळी फेडरेशन को भेंट की गई।

 

18. वियतनाम

जल्द ही वियतनाम में बाबासाहेब की 10 मूर्तियां लगाई जाएंगी। इन प्रतिमाओं का अनावरण 14 अप्रैल, 2023 को होगा। यह प्रतिमाएँ 15 फुट ऊंची पूर्णप्रतिमा होगी। Ambedkar statue in Vietnam 

वियतनाम का सबसे बड़े शहर हो ची मिन्ह सिटी (Ho Chi Minh City) के एक विश्वविद्यालय के परिसर में बाबासाहेब की एक प्रतिमा स्थापित की जाएगी। इस प्रतिमा को ‘सिंबल ऑफ नॉलेज’ का नाम दिया गया है। वियतनामी बौद्ध विचारक भदंत थिच नाथ हान ने अपने देश में बाबासाहेब की 10 मूर्तियां लगाने का संकल्प किया है। मशहूर बौद्ध भारतीय अभिनेता गगन मलिक ने इसके लिए एक खास पहल की है।

 

19. थाईलैंड


बाबासाहब के प्रति विदेशियों का आकर्षण

महामानव डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर के विचार अब देश तक ही सीमित नहीं रहे। वे पूरी दुनिया में पहुंच चुके हैं और विदेशी लोगों का आकर्षण उनके प्रति बढ़ता जा रहा है। इसीलिए पूरी दुनिया में डॉ आंबेडकर की मूर्तियाँ लगाई जा रही हैं।

कुछ संगठन सभी लोकतांत्रिक देशों और बौद्ध बहुसंख्यक देशों में बाबासाहेब आंबेडकर की मूर्तियाँ लगाने का काम कर रहे हैं। भारत के बाहर कई विश्वविद्यालयों में बाबासाहेब के नाम पर अध्यास स्थापित किए गए और कुछ विश्वविद्यालयों में अर्धप्रतिमाएँ स्थापित की गईं। संदर्भ 


सारांश

इस लेख में भारत के बाहर यानी विदेशों में लगी डॉ. बाबासाहेब आंंबेडकर की सभी मूर्तियों के बारे में जानकारी दी गई है। फिर भी यदि कोई मूर्ति इस सूची में शामिल की जानी हो तो आप उचित सन्दर्भ के साथ कमेंट बॉक्स में लिखकर या ई-मेल द्वारा हमें बता सकते हैं।


यह भी पढ़े

 

‘धम्म भारत’ पर मराठी, हिंदी और अंग्रेजी में लेख लिखे जाते हैं :


दोस्तों, धम्म भारत के इसी तरह के नए लेखों की सूचना पाने के लिए स्क्रीन की नीचे दाईं ओर लाल घंटी के आइकन पर क्लिक करें।

(धम्म भारत के सभी अपडेट पाने के लिए आप हमें फेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *