Ambedkar statue in Vietnam : वियतनाम में डॉ. आंबेडकर की 10 मूर्तियां

पूरी दुनिया में महामानव डॉ. बाबासाहब आंबेडकर की कई प्रतिमाएं स्थापित की गई हैं। अब जल्द ही वियतनाम में भी बाबासाहब (Ambedkar statue in Vietnam) की दस प्रतिमाएं लगाई जाने वाली हैं। इन दस मूर्तियों के अनावरण के बाद वियतनाम बाबासाहब की सबसे अधिक मूर्तियों वाला देश बन जाएगा।

अमेरिका, यूनाइटेड किंग्डम, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, जापान, हंगरी जैसे कई देशों में बाबासाहब की मुर्तियां देखी जा सकती हैं। अब इस लिस्ट में वियतनाम भी शामिल होने जा रहा है। – Ambedkar statue in Vietnam

 या लेखाला मराठीत वाचा 

Statues of Dr Ambedkar in Vietnam
Statues of Dr Ambedkar in Vietnam

वियतनाम में डॉ. आंबेडकर की 10 मूर्तियां – Dr Ambedkar statues in Vietnam

14 अप्रैल 2023 को आंंबेडकर जयंती के अवसर पर वियतनाम में डॉ. बाबासाहब आंबेडकर की दस प्रतिमाएं स्थापित की जा रही हैं। ये सभी मूर्तियाँ 3 मीटर ऊँची, यानी मनुष्य की ऊँचाई से लगभग दुगनी/तीन गुनी ऊँचाई की लाइफ साइज़ मूर्तियाँ होंगी। इन दस मूर्तियों के अनावरण के बाद वियतनाम (भारत के बाद) बाबासाहब की सबसे अधिक मूर्तियों वाला देश बन जाएगा।

इन दस मूर्तियों के अलावा, बाबासाहब की कई सारी दो फीट ऊंची मूर्तियों को मुख्य रूप से वियतनाम के बौद्ध विहारों और विश्वविद्यालयों में वितरित और स्थापित किया जाएगा।

डॉ. आंबेडकर की प्रतिमाओं को स्थापित करने का कार्य वियतनामी बुद्धिस्ट एसोसिएशन द्वारा किया जाएगा और इन प्रतिमाओं को वियतनाम के विभिन्न शहरों में स्थापित किया जाएगा। वियतनाम पारंपरिक रूप से ‘बौद्ध राष्ट्र’ के रूप में जाना जाता है। एक अनुमान के अनुसार, वियतनाम के करीब 75 फीसदी लोग बौद्ध हैं।

 

वियतनाम बुद्धिस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के वाइस रेक्टर महाथेरो थिच न्हात तू (Thich Nhat Tu) अपने देश में डॉ. बाबासाहब की मूर्तियां लगाने का संकल्प लिया है। प्रारंभ में, वियतनामी बौद्ध संघ ने वियतनाम में केवल एक बौद्ध विश्वविद्यालय (वियतनाम बुद्धिस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट) के परिसर में बाबासाहब की मूर्ति स्थापित करने की योजना बनाई थी।

लेकिन बाबासाहब के काम और विचारों को समझने के बाद उन्होंने 14 अप्रैल 2023 को वियतनाम के अलग-अलग विश्वविद्यालयों में दस मूर्तियां लगाने की घोषणा की। उन्होंने यह भी कहा कि वह डॉ. आंबेडकर की लेखन सामग्री (बीएडब्ल्यूएस) को वियतनामी भाषा में उपलब्ध कराने पर भी काम करेंगे।

वियतनाम दक्षिण पूर्व एशिया का एक देश है। 311,699 वर्ग किलोमीटर (120,348 वर्ग मील) के क्षेत्रफल और 96 मिलियन की आबादी के साथ, यह दुनिया का पंद्रहवां सबसे अधिक आबादी वाला देश है। वियतनाम की सीमा उत्तर में चीन और पश्चिम में लाओस और कंबोडिया से लगती है। वियतनाम की राजधानी हनोई है और इसका सबसे बड़ा शहर हो ची मिन्ह सिटी है।

 

5 दिसंबर 2022 को, अभिनेता गगन मलिक, सिद्धार्थ हत्तीअंबीरे और बाबासाहेब के पोते भीमराव अंबेडकर इन सभी को वियतनाम में ‘वियतनाम बुद्धिस्ट रिसर्च इन्स्टिट्यूट’ द्वारा मानद डॉक्टरेट “डॉक्टर ऑफ ह्यूमेन लेटर्स” से सम्मानित किया गया।

दुनिया में 18 बौद्ध बहुल देश और गणराज्य हैं, जिनमें जापान ही एक ऐसा देश है जहां डॉ आंबेडकर की मूर्ति है। अब वियतनाम दूसरा बौद्ध देश होगा जहां बाबासाहब की मूर्तियां होंगी।

एक महत्वपूर्ण बात यह है कि वियतनाम दुनिया का तीसरा सबसे बड़ी बौद्ध आबादी वाला देश है। दुनिया में सबसे बड़ी बौद्ध आबादी वाले शीर्ष पांच देश निम्नलिखित हैं। (बौद्ध आबादी और उस देश में बौद्धों के अनुपात सहित)

  1. चीन — 75,00,00,000 (50% बौद्ध )
  2. जापान — 12,10,00,000 (96% बौद्ध )
  3. वियतनाम7,37,00,000 (75% बौद्ध )
  4. थाईलैंड — 6,65,00,000 (95% बौद्ध )
  5. म्यांमार — 5,00,00,000 (90% बौद्ध )

 

वियतनाम में बौद्ध धर्म

वियतनाम में बौद्ध धर्म मुख्य रूप से महायान परंपरा का है और वह देश का प्रमुख धर्म है। बौद्ध धर्म तीसरी या दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में भारतीय उपमहाद्वीप से वियतनाम आया था। कुछ का मानना ​​है कि बौद्ध धर्म पहली या दूसरी शताब्दी ईस्वी में चीन से वियतनाम आया।

कई वियतनामी राजाओं और शासकों ने बौद्ध धर्म को संरक्षण दिया। वियतनामी बौद्ध धर्म का ताओवाद, चीनी आध्यात्मिकता और वियतनामी लोक धर्मों के कुछ तत्वों के साथ सामंजस्यपूर्ण संबंध है।

आज, पूरे वियतनाम में उत्तर से दक्षिण तक बौद्ध पाए जाते हैं। बौद्ध धर्म वियतनाम में सबसे बड़ा संगठित धर्म है। वियतनाम में साम्यवादी सरकार है और सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश की आबादी का केवल 16.4% बौद्ध है, जो की सटीक नहीं है।

कुछ लोगों का तर्क है कि यह संख्या (16.4% बौद्ध) बताई गई संख्या से अधिक है, क्योंकि कई लोगों ने खुद को नास्तिक घोषित किया लेकिन फिर भी बौद्ध गतिविधियों में भाग लिया। नास्तिक वह व्यक्ति है जो ईश्वर के अस्तित्व को नकारता है, और ऐसा व्यक्ति बौद्ध हो सकता है। कई आंकड़ों और देश के बौद्ध विद्वानों के अनुसार, वियतनाम में बौद्ध आबादी 75 से 85% बताई जाती है।

यद्यपि वियतनाम की कम्युनिस्ट पार्टी आधिकारिक तौर पर नास्तिकता को बढ़ावा देती है, यह अक्सर बौद्ध धर्म के पक्ष में झुकती है, क्योंकि बौद्ध धर्म वियतनाम के लंबे और गहरे इतिहास से जुड़ा हुआ है।

साथ ही, बौद्ध धर्म और वियतनामी सरकार के बीच ना के बराबर ही विवाद हुए हैं; वियतनाम की कम्युनिस्ट सरकार बौद्ध धर्म को वियतनामी देशभक्ति का प्रतीक मानती है। बौद्ध त्योहारों को आधिकारिक तौर पर सरकार द्वारा प्रोत्साहित किया जाता है और ईसाई, मुस्लिम और अन्य धार्मिक संप्रदायों की तुलना में बौद्ध धर्म पर कम प्रतिबंध हैं।

 

सारांश

दोस्तों इस लेख में हमने वियतनाम में लगने वाली डॉ आंंबेडकर की मूर्तियों (Ambedkar statue in Vietnam) के बारे में बुनियादी जानकारी प्राप्त की। प्रतिमाओं के अनावरण के बाद इस लेख को अपडेट किया जाएगा। आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताएं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, धन्यवाद।

 

क्या आपने इसे पढ़ा है?


दोस्तों, धम्म भारत के नए लेखों की अधिसूचना प्राप्त करने के लिए नीचे दाईं ओर लाल घंटी आइकन पर क्लिक करें।

(धम्म भारत के सभी अपडेट प्राप्त करने के लिए हमें Facebook पर फॉलो करना न भूलें।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *