Dr. Suraj Yengde biography । डॉ. सूरज एंगड़े का जीवन परिचय

डॉ. सूरज एंगडे एक भारतीय मानवाधिकार कार्यकर्ता, आंबेडकरवादी कार्यकर्ता, वकील और लेखक हैं। वह एक दलित स्कॉलर और पब्लिक इंटेलेक्चुअल के रूप में भी जाने जाते हैं। अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय में शोधकर्ता हैं। जीक्यू इंडिया (GQ India) पत्रिका ने उन्हें 2021 के 25 सबसे प्रभावशाली युवा भारतीयों में सूचीबद्ध किया है। – suraj yengde biography

Suraj Yengde biography
suraj yengde biography in hindi

 

 

डॉ. सूरज एंगड़े का जीवन परिचय – dr suraj yengde biography

डॉ. सूरज मिलिंद एंगडे (जन्म 1988) एक भारतीय शोधकर्ता, मानवाधिकार कार्यकर्ता, आंबेडकरवादी सामाजिक कार्यकर्ता, वकील और लेखक हैं। वह एक दलित स्कॉलर और पब्लिक इंटेलेक्चुअल के रूप में भी जाने जाते हैं। वे नांदेड़, महाराष्ट्र के रहने वाले है, और अभी संयुक्त राज्य अमेरिका में हार्वर्ड विश्वविद्यालय में शोध कर रहे हैं। इसके अलावा वह बेस्टसेलर ‘कास्ट मैटर्स‘ के लेखक और ‘द रेडिकल इन आंबेडकर‘ के सह-संपादक भी हैं। वह हमेशा कैज़ुअल रहते है, और अफ्रीकी हेयर स्टाइल रखते है। सूरज संयुक्त राष्ट्र के लिए भी काम करते है। जीक्यू इंडिया (GQ India) पत्रिका ने उन्हें 2021 के 25 सबसे प्रभावशाली युवा भारतीयों में सूचीबद्ध किया है। – suraj yengde biography

 

उसके बाद 2010 में उन्होंने एलएलएम करने के लिए मुंबई विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया। वहां उनके प्रा. सुरेश माने भी एक सर थे। वहां पढ़ाई के दौरान, 2010 में, उन्होंने लखनऊ में आयोजित ‘जनरल नेशनल कोऑपरेशन डिबेट’ में मुंबई का प्रतिनिधित्व किया। वहां उन्हें “सर्वश्रेष्ठ डिबेटर अवार्ड” मिला।

मुंबई विश्वविद्यालय में कानून की पढ़ाई के दौरान उन्होंने पर्यावरण विषय को भी चुना था। एंगड़े ने विश्वविद्यालय के छात्रों के एक समूह बनाकर पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली कंपनियों के खिलाफ विभिन्न भारतीय उच्च न्यायालयों में जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की थी, क्योंकि पर्यावरण एक मानव अधिकार था।

इस बीच, उन्हें छात्रवृत्ति मिली और वे 31 जनवरी 2010 को लंदन के लिए रवाना हो गए। वे वहां 17 महीने रहे, फिर जिनेवा और उसके बाद दक्षिण अफ्रीका चले गए। वे हार्वर्ड केनेडी स्कूल गए। उन्होंने अफ्रीका के भारतीय प्रवासी कामगारों की स्थिति का अध्ययन किया। अफ्रीका के किसी विश्वविद्यालय से पीएच.डी. करने वाले वे पहले भारतीय दलित छात्र बने। वह संयुक्त राष्ट्र के उपक्रमों में भी काम कर रहे हैं।

एंगडे के घुंघराले बाल है और वह अफ्रीकी हेयर स्टाइल रखते है, जो अल्बर्ट आइंस्टीन और उनके प्रोफेसर अजय स्कारिया से प्रेरित है।

 

उच्च शिक्षा और संशोधन – dr suraj yengde education

Dr. Suraj Yengde's office at Harvard Kennedy School
हार्वर्ड केनेडी स्कूल में स्थित डॉ. एंगडे का कार्यालय, जिसमें वे डॉ. बाबासाहब आंबेडकर और मैल्कम एक्स इन दो उल्लेखनीय मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की तस्वीरों के बीच दिखाई दे रहे हैं।

डॉ. सूरज एंगडे ने चार महाद्वीपों में अध्ययन किया है: एशिया, अफ्रीका, यूरोप और उत्तरी अमेरिका। उन्होंने इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में कानून की पढ़ाई की। वह वर्तमान में बोस्टन, यूएसए में हार्वर्ड विश्वविद्यालय में पोस्ट-डॉक्टरल फेलो के रूप में कार्यरत हैं। जाति, वर्ण, नस्ल सूरज के अध्ययन के विषय हैं। वह वर्तमान में दलित और अश्वेत अध्ययन के सिद्धांत को विकसित करने में शामिल हैं।

लंदन की बर्मिंघम सिटी यूनिवर्सिटी से 2011 से 2012 तक उन्होंने कानून में एलएलएल की डिग्री की पढ़ाई की। यहां उन्होंने पर्यावरण कानून तथा मानव कानून का अध्ययन किया है। पढ़ाई के दौरान उन्हें संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में ‘सेक्रेटरिएट इंटर्न’ के रूप में चुना गया था। वहां उनके साथ पांच अन्य लोग शामिल हुए थे। फिर उन्होंने 2011-12 में स्विट्जरलैंड की यात्रा की, जहां उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के मंत्रालयों के विशेषज्ञों, rapporteurs (प्रतिवेदकों) और दुनिया भर में मानवाधिकार कानून पर निर्णय लेने वालों के साथ काम किया।

संयुक्त राष्ट्र में काम करते हुए, उन्होंने दक्षिण अफ्रीका जाने का फैसला किया। वे वहां जाकर शिक्षा प्राप्त करने के साथ-साथ अफ्रीका के आंदोलन को समझना चाहते थे और उन्हें आंबेडकरवादी दलित आंदोलन को समझाना चाहते थे। उन्हें लगता है कि अगर सभी वंचित समुदाय एकजुट हो जाएंगे, तो वहां कोई आश्रयदाता नहीं होगा और सभी समान होंगे।

उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग विश्वविद्यालय से मानव विज्ञान में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है। “South-South Migration: An ethnographic study of an Indian business district in Johannesburg” (दक्षिण-दक्षिण प्रवासन: जोहान्सबर्ग में एक भारतीय व्यापार जिले का एक नृवंशविज्ञान अध्ययन) उनके पीएचडी शोध प्रबंध का विषय था। वह किसी अफ्रीकी विश्वविद्यालय से पीएचडी प्राप्त करने वाले पहले दलित विद्वान बने।

वह चार साल तक दक्षिण अफ्रीका में रहे, और वहां उन्होंने महज 18 महीनों में अपनी पीएचडी पूरी की। अपनी पीएचडी के दौरान, उन्होंने एक नई अवधारणा विकसित की जो अब “स्मार्टफोन माइग्रेशन” के क्षेत्र में उपयोग की जाती है। अफ्रीका में, उन्होंने एक लिखा EPW वीकली में “कास्ट अमंग इंडियन्स इन अफ्रीका” शीर्षक से लेख लिखा था। उनका कहना है कि डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर जैसा आइडल सबको मिलना चाहिए क्योंकि वह आपको कभी स्वस्थ रहने नहीं देता।

उसके बाद वह 2015 में हार्वर्ड, अमेरिका चले गए और वर्तमान में वहां सीनियर फेलो के रूप में काम कर रहे हैं। वह आंबेडकरवादी आंदोलन के दलित पैंथर और बामसेफ के विचारों से प्रभावित हैं। हार्वर्ड में उनका एक अलिशान कार्यालय भी है, जहाँ डॉ. बाबासाहब आंबेडकर, मैल्कम एक्स, एंजेला डेविस और कांशीराम इनकी तस्वीरों के साथ साथ बहुत सारी किताबें भी हैं।

हार्वर्ड में पढ़ाई के लिये उन्होंने नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री डॉ. अमर्त्य सेन की क्लास को चुना। 2018 में, उन्होंने अमर्त्य सेन से व्यक्तिगत रूप से मुलाकात की। जब दोनों डॉ. बाबासाहब आंबेडकर पर चर्चा कर रहे थे, तब डॉ अमर्त्य सेन ने कहा कि “बौद्ध धर्म अपनाने का बाबासाहब का निर्णय बहुत तार्किक था…” और उन्होने यह भी बताया कि वह (अमर्त्य सेन) स्वयं भी एक बौद्ध है। वैसे अमर्त्य सेन डॉ. आंबेडकर को अर्थशास्त्र में अपना गुरु मानते है।

 

विदेश में जातिगत भेदभाव का अनुभव – caste based discrimination in abroad

इंग्लैंड में अध्ययन के दौरान, अन्य भारतीय छात्रों द्वारा उन्हें अपने ‘दलित‘ होने के कारण जातिगत भेदभाव (caste based discrimination in abroad) का सामना करना पड़ा। पायल तड़वी आत्महत्या मामले के बाद, उन्होंने बीबीसी मराठी के साथ अपना अनुभव साझा किया कि कैसे उनकी जाति ने अमरीका में भी उनका पीछा नहीं छोड़ा। एंगडे ने कहा, “मेरे सहित कई छात्रों को इसी तरह की समस्याओं से गुजरना पड़ता है और सात समुंदर पार भी जाति उनका पीछा नहीं छोड़ती है!”

dr suraj yengde biography

 

लेखन – suraj yengde books

2019 में उन्होंने एक अंग्रेजी किताब ‘कास्ट मैटर्स‘ (Caste Matters) लिखी है। इसे द हिंदू  की प्रतिष्ठित “बेस्ट नॉनफिक्शन बुक्स ऑफ द डिकेड” सूची में शामिल किया गया था।

2018 में ‘द रेडिकल इन आंबेडकर : क्रिटिकल रिफ्लेक्शंस(The Radical in Ambedkar: Critical Reflections) पुस्तक का संपादन सूरज ने आनंद तेलतुम्बडे के साथ मिलकर किया था। यह दुनिया भर के दलितों, अश्वेतों, रोमा, बुराकू और अप्रवासियों को एक साथ लाने का प्रयास करता है।

वह डॉ. बाबासाहब आंबेडकर पर एक अंग्रेजी चरित्र लिख रहे हैं।

पुरस्कार एवं सन्मान – dr suraj yengde awards

  • सूरज एंगडे को भारत के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार ‘साहित्य अकादमी’ के लिए नामांकित किया गया था।
  • “डॉ. आंबेडकर सामाजिक न्याय पुरस्कार” (कनाडा, 2019) के प्राप्तकर्ता
  • “रोहित वेमुला मेमोरियल स्कॉलर अवार्ड” (2018) के प्राप्तकर्ता
  • 14 नवंबर, 2020 को, वह मराठी साप्ताहिक साधना के कवर पर दिखाई दिए थे, जिसमें उनका एक लंबा इंटरव्यू छापा गया था।
  • अमेरिका की एक प्रतिष्ठित पत्रिका GQ ने डॉ सूरज एंगडे को 2021 के ’25 सबसे प्रभावशाली युवा भारतीयों में से एक’ के रूप में नामित किया है। यह पत्रिका स्टाइल, मर्दानगी, फैशन और लाइफस्टाइल के मुद्दों पर काम करती है।

 

संदर्भ

Leave a Reply

Your email address will not be published.