मुझे डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर से बहुत प्रेरणा मिली है – आमिर खान | Aamir Khan on Dr Ambedkar

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता आमिर खान गणराज्य भारत के निर्माता डॉ बाबासाहेब आंबेडकर से बहुत प्रभावित हैं तथा उन्हें अपना आदर्श मानते हैं।

बाबासाहब की दो चीजों से आमिर खान को बहुत प्रेरणा मिलती है। बाबासाहब आंंबेडकर की 125 वीं जयंती के उपलक्ष में आमिर ने बाबासाहब के बारे में अपने विचार साझा किए हैं। – Aamir Khan on Dr Ambedkar

I got a lot of inspiration from Dr. Babasaheb Ambedkar - Aamir Khan
I got a lot of inspiration from Dr. Babasaheb Ambedkar – Aamir Khan

आमिर खान (जन्म 1965) एक भारतीय अभिनेता, फिल्म निर्देशक, निर्माता हैं जो हिंदी फिल्मों में काम करते हैं। अपने 30 साल से अधिक के करियर के दौरान, खान ने खुद को भारतीय सिनेमा के सबसे लोकप्रिय और प्रभावशाली अभिनेताओं में से एक के रूप में स्थापित किया है। खान कई पुरस्कारों के प्राप्तकर्ता हैं, जिनमें नौ फिल्मफेयर पुरस्कार, चार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और एक एएसीटीए पुरस्कार शामिल हैं। उन्हें भारत सरकार द्वारा 2003 में पद्मश्री और 2010 में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया, और 2017 में चीन सरकार से मानद उपाधि प्राप्त की।

 

Aamir Khan on Dr Ambedkar

राष्ट्रनिर्माते डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर विचार महोत्सव समिती (राष्ट्रनिर्माता डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर थॉट फेस्टिवल कमेटी) ने 9 अप्रैल, 2016 की शाम को मुंबई के बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स, एमएमआरडीए ग्राउंड में ‘बाबासाहेबांच्या विचारांचा महोत्सव’ (बाबासाहेब आंबेडकर थॉट फेस्टिवल) का आयोजन किया।

कार्यक्रम के मुख्य आयोजक एवं खाद्य एवं औषधि प्रशासन आयुक्त डॉ. हर्षदीप कांबले थे। इस अवसर पर नेपाल के कैबिनेट मंत्री विश्वेंद्र पासवान, प्रकाश अंबेडकर, अभिनेता आमिर खान, वरिष्ठ संगीतकार हरिहरन, संगीतकार जतिन-ललित, नाटककार राहुल भंडारे, मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आशीष चव्हाण, नवी मुंबई के नगर आयुक्त दिनेश वाघमारे उपस्थित थे।



इस महोत्सव में अभिनेता आमिर खान ने भी अपने विचार प्रकट किए थे, और उन्होंने बाबासाहब को अपना आदर्श बताया। ‘जय भीम’ के साथ ही आमिर ने अपना भाषण शुरू किया और ‘जय भीम’ के साथ ही अपना भाषण समाप्त किया।

आमिर खान का भाषण :

जय भीम, दोस्तों आपके साथ, मैं यहां बाबासाहब के बारे में कुछ विचार साझा करना चाहता हूं, जो मेरे मन में है।

मैंने हमेशा बाबासाहेब को एक ऐसे महापुरुष के रूप में देखा, जो सिर्फ दलितों के नेता नहीं थे, वह हमारे देश के ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के नेता हैं। मैं उन्हें अपना खुद का नेता माना है।

क्योंकि वह हमें इंसानियत सिखाते हैं, जो सबसे बड़ी चीज है। उन्होंने समानता की सीख दी है। हर वो इंसान, चाहे वह दलित न भी हो, पीड़ित हो, शोषित हो या, तकलीफ़ में हो, या वंचित (अंडरप्रिविलेज्ड) हो, उन सबके लिए वह बहुत बड़ी प्रेरणा, और उम्मीद की किरण थे। उन्होंने उन सभी को रास्ता दिखाया है। हर एक इंसान जो इंसानियत में यकीन रखता है, जो इंसानियत को अपना धर्म मानता है, वह सभी बाबासाहेब के अनुयायी हैं।

 

मुझे उनसे बहुत प्रेरणा मिली है। बाबासाहब के बारे में मुझे दो चीजें बहुत खास लगती है। एक – जब भी मैं कभी दिक्कत में या परेशानी में होता हूं, कभी मैं किसी चीज के लिए आवाज उठाता हूं जो मुझे सही लगती है या और भी कहीं बातें जहां मुझे हिम्मत दिखाने की जरूरत पड़ती है, जहां मुझे उस सिचुएशन में डर लगता है, मैं हिम्मत हारने लगता हूं, तब मैं बाबासाहब के बारे में सोचता हूं।

क्योंकि वह एक ऐसे इंसान थे जिन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी, चाहे उनके सामने कितनी भी बड़ी कठिनाई हो, कितना भी बड़ा चैलेंज हो, लेकिन उन्होंने अपना संघर्ष हमेशा जारी रखा। वो निडर थे, उनकी यह खास क्वालिटी है जिससे मुझे बहुत प्रेरणा मिलती हैं।

उनकी दूसरी क्वालिटी है जो मुझे पसंद है वह है उनके दिल में जो प्यार था, प्रेम था। अपने लिए तो हम सब सोचते हैं, अपने परिवार के लिए अपने दोस्तों के लिए हम सब सोचते हैं। पर बहुत ही रेअर इंसान होते हैं जो और लोगों के बारे में सोचते हैं, जो सब के बारे में सोच सकते हैं। ऐसे इंसान के मन में कितनी संवेदनशीलता होगी, कितना प्यार होगा जो इंसानियत के बारे में सोच सकता है।

इन दो चीजों से मुझे हमेशा उनसे बहुत प्रेरणा मिली है। मैंने हमेशा कोशिश की है कि जो संविधान उन्होंने लिखा है उस पर में चलूं। और उनके मन में समाज के लिए जो सपना था उसे अगर हमें पूरा करना है तो हमें उनके दिखाए हुए रास्ते पर चलना है। जो चीजें उन्होंने सिखाई है उन्हें हमें अपने जीवन का एक हिस्सा बनाना है।

यकीनन वो एक महापुरुष है। और मैं हमारे देश के युवाओं से विनती करता हूं कि जो किताबें बाबासाहब ने लिखी है वह हम पढ़े, उनसे हमें सीख मिलें और जो राह उन्होंने दिखाई है उस पर हम चलें।

आई सलूट बाबासाहेब! जय भीम।

I got a lot of inspiration from Dr. Babasaheb Ambedkar - Aamir Khan
Aamir Khan on Dr Ambedkar (pic : hamaraphotos)

इस तरह आमिर खान ने डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के बारे में अपने विचार प्रकट किए। और आमिर ने बाबासाहब की 2 खास चीजें बताई जिनकी वजह से वह उनसे बहुत प्रभावित हुए तथा उन्हें अपनी प्रेरणा लगे। आमिर खान खुद को बाबासाहेब आंबेडकर का फॉलोवर मानते हैं।

यकीनन डॉ बाबासाहेब आंबेडकर महापुरुष थे। बाबासाहब निडर थे, महान मानवतावादी थे। उन्होंने सबके लिए काम किया वह केवल दलितों के नेता नहीं थे, बल्कि हम सब के नेता था। बाबासाहब ने छुआछूत का दंश झेला फिर भी उनके दिल में प्यार था, कटुता का भाव नहीं था, और वो संविधान लिखने समय बार बार झलकता है।

बाबासाहब आंंबेडकर का संघर्ष देश के सबसे बड़े दो शक्तियों के साथ था, एक थे महात्मा गांधी जिनके पीछे बहुत बड़ा कॉन्ग्रेस पार्टी का समुदाय था… और दूसरा था रूढ़ीवादी हिंदू समाज, जो भारत में बहुत ज्यादा शक्तिशाली था और जिसका नेतृत्व ब्राह्मण एवं अन्य स्वर्ण हिंदू कर रहे थे।

कांग्रेसी नेता गांधी एवं रूढ़िवादी हिंदूओं के खिलाफ एक साथ बोलना बड़े साहस की बात है, और यह सब बाबासाहब ने अपनी प्रतिभा एवं अपनी सच्चाई, मेहनत की जोर पर किया। इसलिए भारत के ही नहीं बल्कि दुनिया के कई सारी लोग बाबा साहब से बहुत ज्यादा प्रभावित हुए हैं और उन्हें अपना प्रेरणा स्रोत भी मानते हैं।

आमिर खान के अलावा हमारी फिल्म इंडस्ट्री में और भी कई सितारे ऐसे हैं जो बाबासाहब से प्रभावित है जिनमें नाना पाटेकर, रिचा चड्डा, चेतन कुमार, उषा जाधव, सिद्धार्थ जाधव, पा रंजीत आदि नाम लिए जा सकते हैं।


ये भी पढ़े

 

‘धम्म भारत’ पर मराठी, हिंदी और अंग्रेजी में लेख लिखे जाते हैं :


(धम्म भारत के सभी अपडेट पाने के लिए आप हमें फेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published.