राज्य समाजवाद पर डॉ. आंबेडकर के विचार

भारतरत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने कई विचार प्रस्तुत किए हैं। आज हम राज्य समाजवाद पर बाबासाहेब के विचार (Ambedkar views on state socialism) और उस पर उनकी भूमिका जानने जा रहे हैं।

Ambedkar views on socialism
Dr BR Ambedkar views on state socialism

राज्य समाजवाद पर डॉ. बाबासाहब आंबेडकर के विचार

बाबासाहब ने अपनी पुस्तक ‘स्टेट्स एंड माइनॉरिटीज’ में राज्य समाजवाद की वकालत की। यद्यपि संसदीय लोकतंत्र और राज्य समाजवाद के बीच विरोधाभास प्रतीत होता है, यदि इन दोनों का सही मेल हो तो चीजें एक-दूसरे की पूरक हो सकती हैं, ऐसा बाबासाहेब आंबेडकर मानते थे। Ambedkar idea of state socialism UPSC

उनके समाजवादी विचारों की उत्पत्ति उनके द्वारा स्वयं अनुभव की गई गरीबी पर उनकी पीड़ा में पाई जा सकती है। इसलिए, बाबासाहेब ने महात्मा गांधी द्वारा गरीबी को बढ़ावा देने पर आपत्ति जताई।

वह जवाहरलाल नेहरू के विचारों से सहमत थे कि मशीनी युग और आधुनिक सभ्यता को अपनाकर गरीबी को मिटाया जा सकता है। डॉ. आंबेडकर औद्योगिक सभ्यता के दोषों से अवगत थे; लेकिन वे इसके लिए यहां के सामाजिक ढांचे को दोष देते हैं।

इंसान के जीवन में आराम उतना ही जरूरी है जितना कि काम। शारीरिक जरूरतों के साथ-साथ उनकी मानसिक जरूरतों को भी पूरा करना चाहिए। इसके लिए उसके काम के घंटे निश्चित होने चाहिए। मशीनरी का उपयोग मनुष्य को श्रम से मुक्त करता है।

संक्षेप में, डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के अनुसार, मशीनरी और आधुनिक सभ्यता के बिना लोकतंत्र और समाजवाद मौजूद नहीं हो सकता। Ambedkar view on secularism

 

राज्य समाजवादी रूपरेखा 

राज्य समाजवाद की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर का कहना है कि शोषण तभी रोका जा सकता है जब राज्य कुछ बुनियादी और महत्वपूर्ण उद्योगों का स्वामित्व ले ले।

राज्य समाजवाद के मूल सिद्धांत इस प्रकार थे: 

1) कृषि/खेती राज्य उद्योग होना चाहिए,

2) भूमि का स्वामित्व राज्य का होना चाहिए,

3) कोई जमींदार और कोई कुल या भूमिहीन मजदूर नहीं होना चाहिए,

4) जबरन भूमि-सामूहिकता या कबीले/कुल कानूनों के बजाय सामूहिक खेती की जानी चाहिए।

5) अर्थव्यवस्था को राज्य के पूर्ण नियंत्रण में तेजी से औद्योगीकृत किया जाना चाहिए,

6) बीमा पूरी तरह से राज्य के स्वामित्व में होना चाहिए।

 

हमारी इस राज्य समाजवादी योजना को संविधान में ही शामिल किया जाना चाहिए ताकि इसे संसद के भारी बहुमत से बदला न जा सके। वह नीति सत्तारूढ़ दल पर बाध्यकारी रहेगी।

इस तरह से व्यक्ति के अधिकारों की रक्षा की जा सकती है, ऐसा डॉ. आंबेडकर को लगता था। क्योंकि उनके अनुसार, व्यक्तिगत स्वतंत्रता समाज की आर्थिक संरचना पर निर्भर करती है। Ambedkar views on socialism

 

व्यक्तिगत स्वतंत्रता और समाजवाद एक दूसरे के पूरक हैं 

व्यक्तिगत स्वतंत्रता और समाजवाद एक दुसरे के अनुकूल नहीं है, ऐसा बाबासाहेब आंबेडकर को नहीं लगता था। बाबासाहब पश्चिम के राज्य समाजवाद के सिद्धांत को जैसे का तैसा स्वीकार नहीं करते हैं। Ambedkar on state and society

संपत्ति के अधिकारों को पूरी तरह से समाप्त करना या संपूर्ण आर्थिक व्यवहार के राष्ट्रीयकरण द्वारा निजी क्षेत्र को नष्ट करना, ऐसा डॉ. आंबेडकर का समाजवाद ऐसा नहीं कर सकता। उनका मानना ​​है कि कुछ हद तक व्यक्तिगत और सामाजिक उपयोगिता है।

श्रमिकों को काम के निश्चित घंटे, पर्याप्त मजदूरी और सुरक्षा की गारंटी देता है, ऐसा पूंजीवाद डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर को आपत्तिजनक नहीं लगता।

लेकिन फिर भी वे अत्यधिक असमानता को कम करने और औद्योगीकरण को विकसित करने के लिए राज्य समाजवाद की आवश्यकता महसूस करते हैं। Ambedkar views on socialism

उनके अनुसार, राज्य समाजवाद का एक उद्देश्य यह है कि राज्य को शांतिपूर्ण और कानूनी माध्यमों से सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक असमानताओं को समाप्त करना चाहिए।

 

डॉ. आंबेडकर ने धर्मनिरपेक्ष एवं समाजवाद (Ambedkar on secularism and socialism) बारे में भी महत्वपूर्ण विचार व्यक्त किए है, जिसे आपको जरूर जानना चाहिए।

क्या डॉ. आंबेडकर समाजवाद के विरोधी थे? (did Ambedkar against socialism) – हां, इस प्रश्न का उत्तर आपको इस लेख में मिल ही गया होगा।


यह भी पढ़े

 

‘धम्म भारत’ पर मराठी, हिंदी और अंग्रेजी में लेख लिखे जाते हैं :


दोस्तों, धम्म भारत के इसी तरह के नए लेखों की सूचना पाने के लिए स्क्रीन की नीचे दाईं ओर लाल घंटी के आइकन पर क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *